नवरात्रि व्रत कब तोड़ना चाहिए-2022

kya-period-me-navratri-ka-vrat-kar-sakte-hai

नवरात्रि की समाप्ति के साथ व्रत का पारण किया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार नवरात्री तिथि यानी 26 september 2022, को शुरू हो रहा है। बता दें विधिवत पारण ना करने से नौ दिनों के व्रत का फल नहीं मिलता है।

नवरात्रि व्रत कब तोड़ना चाहिए-2022

नवरात्री में व्रत तोड़ने को पारण कहते है।

नवरात्रि के नौ दिन देवी भगवती के नौ स्वरूपों की पूजा का विधान है। मान्यता है कि विधि विधान से मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा अर्चना करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है और समस्त कष्टों का निवारण होता है। वहीं नवरात्रि की समाप्ति के साथ व्रत को तोडा जाता है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार नवरात्रि व्रत का पारण नवमी तिथि के समापन और दशमी तिथि के प्रारंभ में श्रेष्ठ माना जाता है।

नवरात्रि व्रत तोड़ने की विधि

नवमी के दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि कर साफ और सुंदर वस्त्र धारण करें। इसके बाद देवी भगवती के नौवें स्वरूप मां सिद्धिदात्री की विधिवत पूजा करें। सर्वप्रथम माता को नारियल, लाल चुनरी, सिंदूर, रोली, अक्षत, फल, फूल आदि चढ़ाएं। इसके बाद हवन कर कन्या पूजन करें। ध्यान रहे कन्या पूजन करते समय एक छोटे लड़के को जरूर सम्मिलित करें। तथा कन्या पूजन करने के बाद नौ कन्याओं और एक लंगूर को भोजन करवाएं। इसके बाद आप व्रत का पारण कर सकते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्रीय नवरात्रि में नवमी के दिन व्रत का पारण सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

You may also like...